Rashid Khan Death: संगीत के सरताज राशिद खान का निधन(9 Jan, 2024), ममता बनर्जी बोलीं- बहुत दर्द में हूं


Rashid Khan Death: श्रद्धांजलि! संगीत के उस्ताद राशिद खान का आज हमसे विदाई ले गया है। 55 वर्षीय रागविशारद का इलाज कोलकाता के SSKM अस्पताल में चल रहा था, जहां उनका पार्थिव शरीर आज शाम 6 बजे तक रखा गया है, और कल उनका अंतिम संस्कार होगा। राशिद खान को 2022 में पद्मभूषण से नवाजा गया था, और उनके निधन पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने संवेदनाएं जताई हैं। उनके चाहनेवाले रबींद्र सदन में उन्हें अंतिम अलविदा कहेंगे, और सोशल मीडिया पर उन्हें श्रद्धांजलि दी जा रही है। राशिद खान ने न केवल शास्त्रीय संगीत में, बल्कि बॉलीवुड में भी अपने यादगार गीतों के लिए अपनी पहचान बनाई थी।

Rashid Khan Death: पिछले महीने आया था सेरेब्रल अटैक

रिपोर्ट्स के मुताबिक, पिछले महीने उन्हें सेरेब्रल अटैक आया था, जिसके बाद उनकी हालत और बिगड़ गई थी। शुरुआत में टाटा मेमोरियल कैंसर अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। हालांकि, बाद में उन्होंने कोलकाता में अपना इलाज जारी रखने का फैसला किया।

उनका इलाज कोलकाता के SSKM अस्पताल में 22 नवंबर से चल रहा था और शुरुआत में इलाज से राशिद की सेहत में सुधार भी आ रहा था।

गायक का अंतिम संस्कार 10 जनवरी को किया जाएगा

ममता बनर्जी ने जताया शोक

डॉक्टर ने PTI-भाषा को बताया, ” राशिद खान की हालत बहुत गंभीर थी और उन्हें ICU में वेंटिलेटर पर रखा गया था। वह ऑक्सीजन सपोर्ट पर भी थे।

राशिद की मौत पर शोक जताते हुए बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, “यह पूरे देश और पूरे संगीत जगत के लिए एक बड़ी क्षति है। मैं बहुत दर्द में हूं, क्योंकि मुझे विश्वास ही नहीं हो रहा है कि राशिद खान अब नहीं रहे।

प्रोस्टेट कैंसर से पीड़ित थे उस्ताद

राशिद प्रोस्टेट कैंसर से पीड़ित थे। लंबे समय से उनका इलाज चल रहा था। वह रामपुर-सहसवान घराने से ताल्लुक रखते थे। जिसका संबंध ग्वालियर घराने की गायन शैली से माना जाता है।

उनका जन्म उत्तर प्रदेश के बंदायू में हुआ था।

संगीत की शुरुआती शिक्षा राशिद ने अपने नाना उस्ताद निसार हुसैन से ली थी। वह उस्ताद इनायत हुसैन खान के पड़पोते थे। 1980 में 14 की उम्र में राशिद अकादमी में शामिल हो गए थे।

कई लोकप्रिय गानों में लगाए सुर

राशिद के लोकप्रिय गानों में करीना कपूर और शाहिद कपूर की फिल्म ‘जब वी मेट’ का आओगे जब तुम ओ साजना’ शामिल है।

उन्होंने फिल्म ‘किसना: द वॉरियर पोए ट’ के गाने काहे उजाड़ी मोरी नींद, तोरे बिना मोहे चैन नहीं, फिल्म ‘माय नेम इज खान’ का अल्लाह ही रहम, फिल्म ‘शादी में जरूर आना’ का तू बनजा गली संग आदि गाने गाए थे।

उन्हें 2006 में पद्मश्री और 2022 में पद्म भूषण से नवाजा गया था।

कल होगा राशिद खान का अंतिम संस्कार 

उत्तर प्रदेश के बंदायू जिले से नाता रखने वाले राशिद खान की मौत की खबर सुनकर हर कोई हताश और हैरान नजर आ रहा है। पंश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी सोशल मीडिया पर उनके निधन पर शोक जताया है। बता दें कल यानी 10 जनवरी को उस्ताद राशिद खान का अंतिम संस्कार कोलकाता में ही किया जाएगा। 

Leave a Comment